मंगलवार

जब कभी आपके जीवन में समस्या आये तो

अखबार में, समाचार था कि वैवाहिक जीवन में संतुलन न बैठा पाने के कारण एक अधिकारी ने आत्महत्या कर ली।



Challengin Life

 अब यहां पर यह सवाल खड़ा होता है ऐसी कौन सी परिस्थिति पैदा हो गई उस अधिकारी की, कि उसे आत्महत्या करनी पड़ी।

 मुझे जो लगता है अधिकारी किताबी ज्ञान के अलावा व्यवहारिक ज्ञान लेने में कमजोर रहे। जिंदगी में किताबी ज्ञान से ज्ञान तो मिलता है यह बात सही है लेकिन व्यवहारिक ज्ञान या जीवन का अनुभव भी एक प्रकार का बड़ा ज्ञान है यह भी  सीखना चाहिए। 

किसी भी व्यक्ति को परिस्थितियों से हारकर कभी भी आत्महत्या नहीं करनी चाहिए जो भी जीवन में समस्याएं आपके सामने आ रही हैं उनका समाधान खोजने का प्रयास करना चाहिए।

यदि आप समाधान खोजने का प्रयास करेंगे तो निश्चित रूप से ही आपको कोई न कोई समाधान अवश्य मिलेगा क्योंकि सारी समस्याओं के समाधान उन्हीं समस्याओं में से निकलते हैं

 ऊपर दी गई घटना से यह बात लगती है कि पढ़ने लिखने से ठीक बात है कि ज्ञान मिलता है शिक्षा भी जरूरी है पर जीवन में जो बातें किताबों में नहीं लिखी होती वह आपको समय से सीखनी पड़ती है।

 दूसरों की घटनाओं से सीख कर उनको अपने अमल में लाना चाहिए

 यदि कोई गलती आपसे एक बार होती है तो आप उस गलती से सीख लीजिए यदि आप दोबारा उसी गलती को करते हैं तो यह आपकी मूर्खता कहलाएगी। 

 इसलिए आप को समझदार बनने की जरूरत है जब हम किसी समस्या में घिर जाते हैं तो उसे स्वीकार करना चाहिए और डटकर मुकाबला करना चाहिए।

 Click Here

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

Mathura Vrindavan

लॉकडाउन के तहत प्रदेश में अब सिर्फ पांच दिन बाजार तथा कार्यालय खुलेंगे

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण पर नियंत्रण करने के लिए योगी आदित्यनाथ सरकार ने अब नया फॉर्मूला तैयार किया है। मिनी लॉकडाउन के तहत प्रद...