गुरुवार

जानिए गणेश चतुर्थी के बारे में

गणेश चतुर्थी हिन्दुओं का एक प्रमुख त्यौहार है।

यह त्यौहार भारत के विभिन्न भागों में मनाया जाता है किन्तु महाराष्ट्र में बडी़ धूमधाम से मनाया जाता है। पुराणों के अनुसार इसी दिन गणेश का जन्म हुआ था। 

2020 में गणेश चतुर्थी कब है?

22 अगस्त, 2020
(शनिवार)

गणेश चतुर्थी पर हिन्दू भगवान गणेशजी की पूजा की जाती है। कई प्रमुख जगहों पर भगवान गणेश की बड़ी प्रतिमा स्थापित की जाती है। इस प्रतिमा का नौ दिन तक पूजन किया जाता है।

बड़ी संख्या में आस पास के लोग दर्शन करने पहुँचते है। नौ दिन बाद गाजे-बाजे से श्री गणेश प्रतिमा को किसी तालाब इत्यादि जल में विसर्जित किया जाता है।
गणेश चतुर्थी 

पुराणों के अनुसार


शिवपुराण में भाद्रपद मास के कृष्णपक्ष की चतुर्थी को मंगलमूर्ति गणेश की अवतरण-तिथि बताया गया है जबकि गणेशपुराण के मत से यह गणेशावतार भाद्रपद शुक्ल चतुर्थी को हुआ था।

गण + पति = गणपति। संस्कृतकोशानुसार ‘गण’ अर्थात पवित्रक। ‘पति’ अर्थात स्वामी, ‘गणपति’ अर्थात पवित्रकों के स्वामी।

गणेश चतुर्थी के विषय पर कथा

शिवपुराणके में यह वर्णन है कि माता पार्वती ने स्नान करने से पूर्व अपनी मैल से एक बालक को उत्पन्न करके उसे अपना द्वारपाल बना दिया।
शिवजी ने जब प्रवेश करना चाहा तब बालक ने उन्हें रोक दिया। इस पर शिवगणोंने बालक से भयंकर युद्ध किया परंतु संग्राम में उसे कोई पराजित नहीं कर सका।

अंत में भगवान शंकर ने क्रोधित होकर अपने त्रिशूल से उस बालक का सिर काट दिया। इससे भगवती शिवा क्रुद्ध हो उठीं और उन्होंने प्रलय करने की ठान ली।

भयभीत देवताओं ने देवर्षिनारद की सलाह पर जगदम्बा की स्तुति करके उन्हें शांत किया। शिवजी के निर्देश पर विष्णुजी उत्तर दिशा में सबसे पहले मिले जीव (हाथी) का सिर काटकर ले आए।

मृत्युंजय रुद्र ने गज के उस मस्तक को बालक के धड पर रखकर उसे पुनर्जीवित कर दिया। माता पार्वती ने हर्षातिरेक से उस गजमुखबालक को अपने हृदय से लगा लिया और देवताओं में अग्रणी होने का आशीर्वाद दिया।


यदि आपको यह जानकारी अच्छी लगी तो शेयर कर दीजिये 

Mathura Vrindavan

लॉकडाउन के तहत प्रदेश में अब सिर्फ पांच दिन बाजार तथा कार्यालय खुलेंगे

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण पर नियंत्रण करने के लिए योगी आदित्यनाथ सरकार ने अब नया फॉर्मूला तैयार किया है। मिनी लॉकडाउन के तहत प्रद...