Type Here to Get Search Results !

क्या है फीटल इको? इको टेस्ट क्यों किया जाता है?

प्रेगनेंसी में महिला को बहुत सारे मेडिकल टेस्ट करवाने पड़ते है। इन टेस्ट के माध्यम से प्रेगनेंट महिला और फीटल के स्वास्थ्य पर नजर रखी जाती है। ऐसा ही एक टेस्ट "फीटल इको" भी है जो भ्रूण के लिए बहुत जरूरी है।




क्या है फीटल इको?

फीटल इको को इकोकार्डियोग्राफी और इकोकार्डियोग्राम के नाम से भी जाना जाता है। ये टेस्ट अल्ट्रासाउंड की तरह ही होता है। इस टेस्ट से डॉक्टर पता लगता है कि भ्रूण के हृदय की संरचना कैसी है और वह ठीक से काम कर रहा है या नहीं। अगर भ्रूण के दिल में कोई बीमारी है तो उसका भी पता लगाया जाता है।

कैसे किया जाता है इकोकार्डियोग्राफी?

- इको टेस्ट हाथ में पकड़ी जाने वाली डिवाइस से किया जाता है जिसे प्रोब कहते हैं और इसे पेट पर रख कर किया जाता है।

- प्रोब को मूव करके अल्ट्रासोनिक वेव बच्चे के हृदय पर डाली जाती है जो अल्ट्रासोनिक वेव फीटस के हृदय से बाउंस करती हैं, और प्रोब की मदद से उसे कैप्चर किया जाता है।

- इन वेव्स को एक मॉनिटर पर देखा जाता है, जो 3D पिक्चर में हार्ट, उसका स्ट्रक्चर, वॉल और वाल्व को दिखाता है।

- इस टेस्ट को करने में कम से कम 40 से 90 मिनट लग जाते है।

- ये टेस्ट तब किया जाता है जब फीटस में किसी हार्ट प्रॉब्लम होने का संदेह होता है।

- इससे समय पर मेडिटेशन और सर्जरी के द्वारा ठीक किया जा सके।

इकोकार्डियोग्राफी कब किया जाता है?

फीटल इको टेस्ट प्रेगनेंसी की दूसरी तिमाही के 18 से 24वें हफ्ते में किया जाता है। इस टेस्ट के जरिये फीटल में हृदय की समस्याओं के बारे में पता लगाया जाता है, इसके अलावा रूटीन चेकअप के दौरान डॉक्टर को अगर फीटस डेवलपमेंट में कुछ दिक्कत दिखाई देती है तो उसे मॉनिटर करना जरूरी होता है।

इको टेस्ट क्यों किया जाता है?

प्रेग्नेंसी में फीटल इको टेस्ट करने के पीछे कई कारण होते है जैसे की:

- हृदय से होने वाले ब्लड के फ्लो को जानने के लिए।

- बच्

- धड़कन में होने वाली दिक्कत का पता लगाने के लिए।

- जन्मजात हार्ट डिफेक्ट जन्म से ही होने वाले हार्ट डिफेक्ट का पता लगाने के लिए।

- दिल से जुड़ी बीमारियों का पता लगता है।

- यदि फैमिली हिस्ट्री में जैसे पेरेंट्स या दादा-दादी को दिल की बीमारी रही हो।

- प्रेगनेंट महिला को डायबिटीज और ल्यूपस की बीमारी हो।

- प्रेगनेंट महिला को रूबेला वायरस होने पर।

- मां का मिर्गी या एक्ने की दवा लेने पर, जो हृदय को नुकसान पहुंचा सकती है।

फीटल इको के लिए तैयारी?

फीटल इको टेस्ट के लिए खाली पेट रहने की जरुरत नहीं होती है इसलिए आप कुछ खा-पी के ही जाए। !जब आप जांच कराने जाए तो ढीले ढाले कपडे पहनना चाहिए। डॉक्टर पेट पर जेल लगाते है इसलिए पेट पर लोशन या क्रीम न लगाएं। कभी-कभी इस टेस्ट में कुछ घंटे लग जाते हैं इसलिये किसी परिवार वाले को साथ में लेकर जाए।

फीटल इको स्कैन कैसे किया जाता है?

फीटस इको टेस्ट, दो तरीके से किया जाता है- एब्डोमिनल अल्ट्रासाउंड और ट्रांसवेजाइनल अल्ट्रासाउंड।

एब्डोमिनल इकोकार्डियोग्राफी: इस इको टेस्ट को करने के लिए प्रेगनेंट महिला के पेट पर जेल लगाया जाता है और प्रोब को पेट के ऊपर घूमाते हैं। जिससे कंप्यूटर पर बच्चे की हृदय को देखा जा सकता है।

ट्रांसवेजाइनल इको टेस्ट: इस इको टेस्ट में डॉक्टर एक छोटा सा प्रोब प्रेगनेंट महिला के योनि में रखते है। प्रोब से निकलने वाली ध्वनि तरंगें फीटल के पिक्चर को रिकॉर्ड करती है और अल्ट्रासाउंड मशीन के जरिए मॉनिटर पर देखा जाता है।

फीटस इको टेस्ट के रिजल्ट कैसे होते हैं?

फीटस इको टेस्ट का परिणाम दो तरह के होते हैं:

नॉर्मल परिणाम: जब इको टेस्ट में भ्रूण में किसी तरह की परेशानी नहीं आती है, तो इसे सामान्य परिणाम कहते है।

एब्नार्मल परिणाम: अगर फीटस इको टेस्ट रिजल्ट में बच्चे के दिल का ठीक तरीके से काम नहीं करते और जन्मजात हृदय दोष होता हैं, तो इसे असामान्य परिणाम कहते है।

फीटस इकोकार्डियोग्राफी की लिमिटेशन

इकोकार्डियोग्राफी से भ्रूण के हृदय परेशानियों का पता चलता है, लेकिन इस टेस्ट से कई दूसरे हृदय दोष का पता नहीं लग पाता जैसे की हृदय में छेद होना और हल्के वाल्व है। इसके अलावा, इको टेस्ट में बच्चे के दिल से निकलने वाली रक्त वाहिका को देखना भी मुश्किल होता है।

टेस्ट से कोई जोखिम है क्या?

फीटल इको टेस्ट में किसी तरह का कोई दर्द नही होता है। इस में कट लगाने की भी जरूरत नहीं पड़ती, इसलिए इसका कोई बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है। और ये मां और भ्रूण दोनों के लिए सुरक्षित है।

फीटस इको टेस्ट की कीमत

भारत में फीटस इको टेस्ट की कीमत 1600 से 3500 रुपये है। लेकिन हर शहर के हिसाब से इसकी कीमत कम या ज्यादा हो सकती है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Below Post Ad

Hollywood Movies