गुरुवार

दूधवाले की बेटी सोनल शर्मा ने अपनी मेहनत और काबिलियत से ऊंचा पद प्राप्त किया, कर्ज लेकर माता पिता ने पढ़ाया


राजस्थान के उदयपुर में दूधवाले की बेटी सोनल शर्मा ने अपनी मेहनत और काबिलियत से ऊंचा पद प्राप्त किया है। सोनल ने साल 2018 में राजस्थान न्यायिक सेवा की परीक्षा पास कर ली और अब वे जज बनने जा रही हैं। 26 वर्षीय सोनल शर्मा ने बहुत सी परेशानियों से जूझते हुए पढ़ाई की। उन्होंने गौशाला में रह कर पढ़ाई की और बहुत सारी दिक्कते झेली। लेकिन फिर भी उन्होंने BA, LLB और LLM की परीक्षा में प्रथम स्थान लिया, जो कि बहुत गर्व की बात है।

उनको अभी 1 साल की ट्रेनिग दी जाएगी। जिसके बाद सोनल राजस्थान की कोर्ट में प्रथम श्रेणी मजिस्ट्रेट के रूप में नियुक्त होंगी। इस परीक्षा का रिजल्ट पिछले वर्ष के दिसम्बर में आया था, लेकिन सोनल का नाम फाइनल लिस्ट में नहीं था। उनका सामान्य कट ऑफ लिस्ट में एक नंबर कम था इसलिए उनका नाम वेटिंग लिस्ट में रखा गया था।

लेकिन उनकी क़िस्मत बहुत जोरदार थी। क्योंकि जिन लोगो को फाइनल लिस्ट में चुना गया था, उन्होंने सर्विस ज्वाइनिंग नहीं किया था, फिर सोनल को जब 7 खाली सीटों का पता चला, तो उन्होंने राजस्थान हाई कोर्ट में एक एप्पलीकेशन दी। जिसके बाद उन्हें इस लिस्ट में शामिल करने के आदेश दिए।

पशुओं की देखरेख करते हुए पढ़ती थी

सोनल के घर की हालत अच्छी नहीं थी। वो ट्यूशन की फीस नहीं दे सकती थी और ना ही पढ़ाई के लिए महंगी चीजों का ख़र्च उठा सकती थी। उन्होंने बिना इन सब साधनों के लिएअपनी पढ़ाई की। वे गौशाला में जाकर पिटाई किया करती थीं और पढ़ाई के साथ-साथ जानवरों की देखरेख भी करती थीं।

कर्ज लेकर माता पिता ने पढ़ाया

उनके माता-पिता को सोनल की पढ़ाई के लिए कर्ज़ लेना पड़ा था। उन्होंने यह भी बताया कि कई बार ऐसा होता था की उनकी चप्पल गाय के गोबर से सनी रहती थी, इसलिए जब वे स्कूल या कॉलेज जाती थी तब उन्हें शर्मिंदगी महसूस होती थी। वो अपने दोस्तो को यह बताने में भी शर्म महसूस करती थी कि वे एक दूधवाले के परिवार से हैं

लेकिन कई प्रकार की दिक्कतों को झेलते हुए सोनल ने कामयाबी हासिल की, जिससे सभी को प्रेरणा लेनी चाहिए।

कोई टिप्पणी नहीं:

Mathura Vrindavan

क्या है हाई ब्लड प्रेशर? हाई ब्लड प्रेशर कितने प्रकार के होते हैं? हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण क्या हैं? हाई ब्लड प्रेशर के कारण क्या है?

हाई ब्लड प्रेशर आज कल आम समस्या बनती जा रही है। इसे गंभीरता से न लेने के कारण ज्यादातर लोग आसानी से इसका शिकार बनते जा रहे हैं। भारत में 8 ल...