शुक्रवार

अगर सीढ़ियां चढ़ते या फिर दौड़ते हुए आपकी सांस फूलती है या फिर थोड़ा सा भी काम करने

आज की तनाव भरी जिंदगी में इंसान कई तरह की बीमारियों का शिकार हो रहे हैं। उनमें से एक बीमारी है सांस फूलने की। मेडिकल टर्म में इसको डिस्पानिया कहते है। अगर सीढ़ियां चढ़ते या फिर दौड़ते हुए आपकी सांस फूलती है या फिर थोड़ा सा भी काम करने, भारी सामान उठाने से आपकी सांस फूल जाती है, तो इसे आपको नजरअंदाज नहीं करना चाहिए, क्योंकि ये खराब जीवन शैली के कारण भी होता है। मोटापे, एंजाइटी, अस्थमा, दिल की बीमारी, कैंसर, टीवी, एनीमिया के कारण भी सांस फूलने की समस्या होती है।



 

कोरोना का सबसे ज्यादा असर फेफड़ों पर ही पड़ता है, ऐसे में कुछ लोगों को सांस लेने में काफी दिक्कतें होती हैं। इसलिए आप कुछ घरेलू उपायों के जरिए सांस फूलने की इस समस्या से निजात पा सकते हैं। आइए जानते हैं इनके बारे में:

गहरी सांस लें: सांस फूलने से छुटकारा पाने के लिए पेट से गहरी सांस लें। इसके लिए लेट जाइए और अपने दोनों हाथों को पेट पर रख लें। नाक से गहरी सांस लें और पेट को फुलाते हुए अपने फेफड़ों में हवा भरने की कोशिश करें। इसके बाद मुंह से सांस लें और धीरे धीरे हवा को बाहर निकालें। इसको आप दस मिनट तक कर सकते हैं।

कॉफी: सांस फूलने की समस्या को कम करने के लिए कॉफी काफी फायदेमंद है। इसमें मौजूद कैफीन सांस की नली में मौजूद मांशपेशियों को आराम देती हैं। इसलिए आप सांस फूलने की समस्या से छुटकारा पाने के लिए आप ब्लैक कॉफी का सेवन कर सकते हैं लेकिन इसका सीमित प्रयोग ही करिए।

अदरक: अदरक सांस की नली से संक्रमण को हटाने में मदद करती है। अदरक सांस की नली में पैदा करने वाले बेक्टेरिया आरएसवी वायरस से लड़ने में मदद करता है। इसके लिए आप अदरक को गर्म पानी में या खाने में डालकर इस्तेमाल कर सकते हैं।

लाइफस्टाइल मे परिवर्तन लाएं: सांस की समस्या का सबसे बड़ा कारण धूम्रपान और तंबाकू का सेवन करना होता है। इसलिए आपको धूम्रपान के सेवन से भी बचना चाहिए। इसके साथ नियमित तौर पर व्यायाम भी करना चाहिए।

कोई टिप्पणी नहीं:

Mathura Vrindavan

क्या है हाई ब्लड प्रेशर? हाई ब्लड प्रेशर कितने प्रकार के होते हैं? हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण क्या हैं? हाई ब्लड प्रेशर के कारण क्या है?

हाई ब्लड प्रेशर आज कल आम समस्या बनती जा रही है। इसे गंभीरता से न लेने के कारण ज्यादातर लोग आसानी से इसका शिकार बनते जा रहे हैं। भारत में 8 ल...