मंगलवार

मध्य प्रदेश बोर्ड ने दसवीं कक्षा के बोर्ड परीक्षा को रद्द कर दिया है। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के कारण यह फैसला लिया है। 

मध्य प्रदेश बोर्ड ने दसवीं कक्षा के बोर्ड परीक्षा को रद्द कर दिया है। कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के कारण यह फैसला लिया है। अब दसवीं कक्षा में छात्रों को स्कूल में ही दिए गए अंगों से पास किया जाएगा। बोर्ड ने छात्रों के लिए मूल्यांकन प्लान जारी किए हैं, जिसके हिसाब से छात्रों को दसवीं कक्षा में पास करके ग्यारहवीं कक्षा में डाला जाएगा।

छात्रों को मिड-टर्म परीक्षाओं, प्री-बोर्ड परीक्षाओं, यूनिट टेस्ट के जरिए जो नंबर मिलेंगे, उसी के आधार पर आंतरिक मूल्यांकन होगा और पास किया जाएगा। प्रत्येक विषय के लिए 100 अंकों में से मूल्यांकन किया जाएगा।


कैसा है मूल्यांकन प्लान

छात्रों को पास करने के लिए प्री-बोर्ड परीक्षाओं में 50% वेटेज में रखा गया है। इसके अलावा यूनिट टेस्ट्स को 30% वेटेज और आंतरिक मूल्यांकन को 20% वेटेज में रखा गया है। इस तरह से 100% वेटेज के हिसाब से छात्रों को नंबर दिए जाएंगे और पास किया जाएगा। अगर कोई छात्र 33% नंबर नहीं ला पाता है तो उसे ग्रेस नंबर दे कर प्रमोट किया जाएगा।

जो छात्र प्री-बोर्ड, यूनिट टेस्ट या पूरे वर्ष कोई भी परीक्षा नही दी, ऐसे छात्रों को फेल किया जाएगा और अगले साल उनको फिर बोर्ड की परीक्षा देनी पड़ेगी। इसके अलावा छात्रों को पिछले वर्ष 5 विषय में जिसमे सबसे ज्यादा अंग मिले होंगे, उसके हिसाब से भी अंक दिए जायेंगे। अगर कोई छात्र आंतरिक मूल्यांकन से मिले अंकों से संतुष्ट नहीं है, तो वह लिखित परीक्षा में शामिल हो सकता है।

इसके अलावा बोर्ड ने अभी बारहवीं कक्षा के बोर्ड के लिए डेट नहीं निकाली है। इस साल सीबीएसई, आईसीएसई सहित राज्यों ने दसवीं कक्षा की परीक्षाओं को रद्द कर दिया है और आंतरिक मूल्यांकन के जरिए पास करने का प्लान बनाया है। इसके अलावा सीबीएसई के दसवीं कक्षा का रिजल्ट 20 जून को जारी होने वाला है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Mathura Vrindavan

क्या है हाई ब्लड प्रेशर? हाई ब्लड प्रेशर कितने प्रकार के होते हैं? हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण क्या हैं? हाई ब्लड प्रेशर के कारण क्या है?

हाई ब्लड प्रेशर आज कल आम समस्या बनती जा रही है। इसे गंभीरता से न लेने के कारण ज्यादातर लोग आसानी से इसका शिकार बनते जा रहे हैं। भारत में 8 ल...