शनिवार

Whtasapp पर आए कई धांसू स्टीकर्स, बढ़ जाएगा चैटिंग का मजा, फटाफट कर लें डाउनलोड.

WhatsApp इस साल के अंत तक कई नए फीचर्स को लॉन्च करने जा रहा है। एक रिपोर्ट से पता चला था कि कंपनी Read Later और Multi Device सपोर्ट जैसे फीचर्स पर काम करने में लगी हुई है। अब व्हाट्सऐप ने अपने एक फीचर में अपडेट किया है। कंपनी ने चैटिंग को और ज्यादा अच्छा बनाने के लिए छह नए WhatsApp Sticker Pack लेकर आई हैं। इन स्टीकर्स को इस्तेमाल भी लोग बहुत ज्यादा कर रहे हैं। ये नए स्टिकर पैक कार्टून पर आधारित हैं। सभी छह स्टिकर पैक को iOS और एंड्रॉयड यूजर्स के लिए लॉन्च किया गया है।




कैसे मिलेंगे Stickers

WhatsApp के इस नए स्टीकर पैक में पहला स्टीकर पैक 'A Burdensome Pigeon named Eagle" है। दूसरा स्टीकर पैक 'Betakkuma 2' है। तीसरा बेस्ट फ्रेंड्स है जो 'Egg and Chup' हैं। चौथा 'Realistic Rabbit' हैं। पांचवा पैक स्पॉन्जबॉब की तरह है जो 'Square Cheese’s Daily Life' है। छठवां पैक फ्रैंकली वियर्ड है जो 'Woman Cactus' है। व्हाट्सऐप ने कुछ और स्टीकर पैक भी लॉन्च किए थे।


कैसे करें Stickers को डाउनलोड

इन नए स्टिकर पैक को यूज करने के लिए, आपको सबसे पहले व्हाट्सऐप ऐप को अपडेट करना होगा। अगर आपकी अपडेट सेटिंग ऑटो पर सेट है, तो ऐप ऑटोमेटिकली अपडेट हो जायेगा। जिसके बाद आप इन स्टीकर्स को आराम से यूज कर सकते हैं।


कैसे भेजें Stickers?

- सबसे पहले अपना व्हाट्सऐप ओपन करें और जिसे Sticker भेजना चाहते हैं उसकी चैट ओपन करें।

- 'type a message' पर क्लिक करें और emoji पर जाएं।

- इसके आपको 3 ऑप्शन दिख जायेंगे जिसमें emoji, GIF और तीसरा ऑप्शन Sticker होंगे।

- इन Sticker को एड करने के लिए आप प्लस आईकन पर क्लिक करें।

- आपको जो भी स्टिकर पसंद है, उन्हें डाउनलोड ऑप्शन पर क्लिक करके एड कर सकते हैं।

- अब आप जिसको भी ये स्टिकर भेजना चाहें, भेज सकते हैं।

- इन स्टीकर को फेवरेट स्टीकर्स में भी डालने का ऑप्शन होता हैं

- इसके लिए आपको स्टीकर पर थोड़ी देर प्रेस करके रखना होगा।

- एड करने के बाद आपको स्टार वाले आईकन में वो स्टीकर नजर आ जायेंगे।

कोई टिप्पणी नहीं:

Mathura Vrindavan

क्या है हाई ब्लड प्रेशर? हाई ब्लड प्रेशर कितने प्रकार के होते हैं? हाई ब्लड प्रेशर के लक्षण क्या हैं? हाई ब्लड प्रेशर के कारण क्या है?

हाई ब्लड प्रेशर आज कल आम समस्या बनती जा रही है। इसे गंभीरता से न लेने के कारण ज्यादातर लोग आसानी से इसका शिकार बनते जा रहे हैं। भारत में 8 ल...