रविवार

भारतीय मौसम विभाग ने चक्रवाती तूफान ‘ताउते ’ के और मजबूत होने की बात कही है

भारतीय मौसम विभाग ने चक्रवाती तूफान ‘ताउते ’ के और मजबूत होने की बात कही है और अब ये तेजी से गुजरात तट और दमन-दीव एवं दादरा-नगर हवेली तट की ओर बढ़ रहा है।


आईएमडी ने बताया है कि शनिवार को तूफ़ान देर रात तक और भयंकर हो सकता है। इसके उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने से 18 मई की दोपहर के आसपास पोरबंदर और नलिया के बीच गुजरात तट को पार कर सकता है। इससे उन क्षेत्रो में भारी वर्षा होगी,

महाराष्ट्र के सिंधुदुर्ग और रत्नागिरि जिलों के साथ साथ गोवा में तेज़ हवाएं और बारिश और बारिश हो सकती है। हवा की गति लगभग 60 से 70 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से होगी।

दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चक्रवात ‘‘ताउते’’ से निपटने के लिए राज्यों, केंद्रीय मंत्रालयों और एजेंसियों की तैयारियों का जायजा लेने के लिए शनिवार को एक बैठक की जिसमे लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने तथा बिजली, दूरसंचार, स्वास्थ्य, पेयजल जैसी जरूरी सेवाओं की सुविधा देने की बात कही गई।

प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से कहा गया कि जिन स्थानों पर चक्रवात आना है, वहां के अस्पतालों में कोविड प्रबंधन, टीकाकरण, बिजली की कमी नहीं होनी चाहिए।

इस बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, प्रधानमंत्री के प्रमुख सचिव, केबिनेट सचिव, गृह मंत्रालय, नागरिक उड्डयन, संचार, पोत परिवहन मंत्रालयों के सचिव, राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (एनडीएमए) के अधिकारी, रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष और प्रधानमंत्री कार्यालय तथा गृह मंत्रालय के अधिकारी शामिल थे।

राष्ट्रीय आपदा मोचन बल की टीमें गुजरात के गिर सोमनाथ, अमरेली, पोरबंदर, द्वारका, जामनगर, राजकोट, कच्छ, मोरबी, सूरत, गांधीनगर, वलसाड, भावनगर, नवसारी, भरूच और जूनागढ़ जिलों में पहले से ही तैनात कर दिए गए हैं।

सौराष्ट्र क्षेत्र के जिले जैसे देवभूमि द्वारका, कच्छ, पोरबंदर, जूनागढ़, गिर सोमनाथ, जामनगर, अमरेली, राजकोट और मोरबी जिलों में चक्रवर्ती तूफ़ान का असर रहेगा

गृह मंत्रालय ने 17 और 18 मई को उत्तर पश्चिमी अरब सागर और गुजरात तट से मछुआरों को दूर रहने की सलाह दी है।

कोई टिप्पणी नहीं:

Mathura Vrindavan

साइनस क्या होता है? साइनस कितने प्रकार होते है? साइनस होने के क्या कारण हैं? साइनस की रोकथाम कैसे करें?

Sinus आजकल की बिगड़ी लाइफस्टाइल और खानपान से लोग अपनी सेहत का सही प्रकार से ख्याल नहीं रख पाते और कई बीमारियों से घिरे रहते हैं।जिसमे कारण उ...